Saturday, January 1, 2011



साल बीत रहा !!
कुछ शेष नहीं रहा !!
सुख के कुछ पल
दुःख की वेदी में 
जल गए!! 
सुप्त आशाएं 
फिर जाग उठी !!
दिल गुनगुनाने 
लगा !!
उमंगें हिलोरे 
लेने लगी !!
नया साल जो 

2 comments:

  1. नए साल की पहली पोस्ट.प्यारी रचना....अच्छी लगी.
    नव वर्ष पर आपको ढेर सारी बधाइयाँ.
    _____________
    'पाखी की दुनिया' में नए साल का पहला दिन.

    ReplyDelete