Thursday, November 1, 2012

रंग मेहंदी का सजाया इन हाथों में

रंग लिया तेरी प्रीत से तन मन सजन 
रंग मेहंदी का सजाया इन हाथों में 
प्रीत की ओढ़ी मैंने तेरी चुनर
तुम ही हो मन देवता मेरे सजन
तेरी झूठी बातों पर वह रूठना मेरा 
आकर चुपके से मुंह चूमना तेरा 
धीरे से कानों में सुनाना प्रेम गीत
हैं स्मरण प्रतिक्षण मुझे मेरे सजन
वह तेरा गुस्सा तेरी मनुहार सब
मैंने है सहेजा हृदय में प्यार सब
हैं अभी तक भी बसे आँखों में पल
करते हैं मन को विकल मेरे सजन
भूल बैठी हूँ अपने अस्तित्व को
कर दिया सब कुछ तुम्हें अर्पण
मान रखा हैं तुम ही को मन देवता
हर अर्चना तुमको अर्पित है सजन jyoti dang

3 comments:

  1. अति सुन्दर रचना..

    ReplyDelete
  2. बहुत खूब सुंदर रचना,,,,
    करवाचौथ की बहुत बहुत शुभकामनाएं,,,,,

    RECENT POST : समय की पुकार है,

    ReplyDelete